पश्चिम बंगाल समेत 5 राज्यों में विधानसभा चुनाव का ऐलान

0
317
बंगाल चुनाव में चौथे चरण तक 2016 के मुकाबले दारू, ड्रग की 640 गुना अधिक बराबदगी हुई है। 46.76 करोड़ नकद बरामद किये गये हैं।
बंगाल चुनाव में चौथे चरण तक 2016 के मुकाबले दारू, ड्रग की 640 गुना अधिक बराबदगी हुई है। 46.76 करोड़ नकद बरामद किये गये हैं।

दिल्ली। पश्चिम बंगाल समेत 5 राज्यों में विधानसभा के चुनाव की घोषणा चुनाव आयोग ने आज कर दी। पश्चिम बंगाल की 294 सीटों के लिए 8 चरणों में चुनाव होंगे। 27 मार्च को पहले चरण का चुनाव होगा और 29 अप्रैल को अंतिम चरण का। हर दौर में न्यूनतम 30 और अधिकतम 45 सीटों पर वोट पड़ेंगे। बंगाल के अलावा असम, तमिलनाडु, केरल और केंद्रशासित प्रदेश पांडिचेरी में विधानसभा चुनाव हो रहे हैं। इन राज्यों में चुनाव की प्रक्रिया अप्रैल में ही पूरी कर ली जाएगी। चुनाव आयोग द्वारा विधानसभा चुनाव के ऐलान के साथ ही आचार-संहिता लागू हो गयी है। केंद्र-राज्य अब नयी योजनाओं की घोषणा नहीं कर सकेंगे। सभी राज्यों के चुनाव परिणाम 2 मई को घोषित होंगे।

बंगाल की कुल 294 सीटों पर चुनाव

27 मार्च को 30 सीटों पर चुनाव, 1 अप्रैल को 30 सीटों पर चुनाव, 6 अप्रैल को 31 सीटों पर चुनाव, 10 अप्रैल को 44 सीटों पर चुनाव, 17 अप्रैल को 45 सीटों पर चुनाव, 22 अप्रैल को 43 सीटों पर चुनाव, 26 अप्रैल को 36 सीटों पर चुनाव और 29 अप्रैल को 35 सीटों पर चुनाव होंगे।

- Advertisement -

असम की 126 सीटों पर होंगे चुनाव

असम में तीन चरणों में चुनाव संपन्न होंगे। 27 मार्च से शुरू होकर 6 अप्रैल को चुनाव प्रक्रिया पूरी कर ली जाएगी। 27 मार्च को पहले चरण का चुनाव होगा। पहले चरण का चुनाव 27 मार्च को, दूसरे चरण का 1 अप्रैल को और तीसरे चरण का चुनाव 6 अप्रैल को होगा।

तमिलनाडु व केरल में एक ही दिन 6 अप्रैल को डाले जाएंगे वोट

तमिलनाडु में विधानसबा की 234 सीटें हैं। वहां एक ही दन सभी सीटों के लिए वोट पड़ेंगे। 6 अप्रैल को चुनाव की तिथि निर्धारित है। केरल में भी एक ही दन 6 अप्रैल को वोट डाले जाएंगे। केंद्रशासित प्रदेश पांडिचेरी में भी 30 सीटों के लिए 6 अप्रैल को ही वोट डाले जाएंगे।

वोटिंग के दौरान कोविड नियमों का पालन होगा, CCTV कैमरे लगाये जाएंगे

हर बूथ पर CCTV कैमरे लगाये जाएंगे, ताकि वोटरों की सुरक्षा की निगरानी हो सके। कोविड नियमों का विशेष ध्यान रखा जाएगा। हर मतदान केंद्र पर सेनेटाइजर और मास्क का इंतजाम किया जाएगा। मतदान का समय भी 1 घंटा बढ़ाया दिया गया है। बंगाल में एक लाख से अधिक यानी 1,01,916 बूथ हैं।

उम्मीदवार ऑनलाइन पर्चा दाखिल करेंगे। जमानत राशि भी ऑनलाइन ही जमा होगी। चुनाव प्रचार के लिए अधिकतम 5 लोगों के साथ उम्मीदवार घर-घर जा सकेंगे। बंगाल में IPS विवेक दूबे और IPS मृणाल कांति दास को चुनाव पर्यवेक्षक बनाया गया है। चुनाव खर्च की निगरानी के लिए IRS बी मुरली कुमार बंगाल के पर्यवेक्षक बनाये गये हैं।

पांच राज्यों में कुल 18.68 करोड़ मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे। पां राज्यों की कुल बूथ संख्या 2.7 लाख है। चुनाव होने वाले बंगाल सहित दूसरे राज्यों में CRPF की तैनाती की जाएगी। राज्य और केंद्रीय बल साथ मिल कर काम करेंगे। चुनाव प्रक्रिया के बीच ही मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा 13 अप्रैल को रिटायर हो जाएंगे। यह उनके कार्यकाल का आखिरी चुनाव है।

- Advertisement -