नीतू कुमारी नवगीत ने भक्ति गीतों से लोगों को खूब रिझाया-झुमाया

0
91
कार्यक्रम देने पगंचीं मशहूर गायिका नीतू कुमारी नवगीत
कार्यक्रम देने पगंचीं मशहूर गायिका नीतू कुमारी नवगीत

पटना। नीतू कुमारी नवगीत ने महाष्टमी पर भक्ति गीतों से लोगों को खूब रिझाया-झुमाया। देवी आराधना के उनके गीत को दर्शकों-श्रोताओं ने खूब सराहा। गायन के क्षेत्र में बिहार का नाम रौशन करने वाली नीतू की खासियत है कि वे अवसर और श्रोताओं के मन मुताबिक गीतों का चयन-गायन करती हैं। दर्शक इसीलिए उन्हें सुना पसंद भी करते हैं।

श्री श्री दुर्गा पूजा समिति, कला मंच, राम जयपाल रोड द्वारा महाष्टमी के अवसर पर दुर्गा पूजा पंडाल में लोकगीतों का विशेष कार्यक्रम आयोजित किया गया, जिसमें  बिहार की प्रसिद्ध लोकगायिका डॉ नीतू कुमारी नवगीत ने भक्ति गीतों और भजनों के माध्यम से भक्तों को भावविभोर किया।

- Advertisement -

उससे पहले सामाजिक संस्था सखी की सचिव सुमन सिंह ने लोक गायिका नीतू कुमारी नवगीत का सम्मान किया। नीतू कुमारी नवगीत ने सांस्कृतिक कार्यक्रम की शुरुआत गणेश वंदना मंगल के दाता भगवान बिगड़ी बनाई जी से की।

उसके बाद महा अष्टमी के दिन महागौरी दुर्गा की आराधना पर विशेष बल देते हुए लाली चुनरिया शोभे हो, शोभे लाली टिकुलिया, मैया के भावे लाल रंगवा हो, शोभे लाली चुनरिया, झूला लागल बा निमिया के डार झुलेली माई झूम-झूम  के, विद्यापति रचित गीत जय जय भैरवी असुर भयाउनि, पशुपति भामिनी माया, माई के चुनरी में देखि चंदा चमके सूरज दमके, तारा झिलमिल झिलमिल झलके, लागे रूप सुहावन बारा रे, ओ मैया चुनरी घुमावेली तो पावन लागे रे, जगदंबा घर में दियरा बार अईली हे जैसे गीत गाए।

मां गंगे की आराधना करते हुए उन्होंने गंगा जी के पनिया ले आई कलसा धराई हो और चलली गंगोत्री से गंगा मैया जग के करें उद्धार गीत गाया।  सांस्कृतिक कार्यक्रम में गायिका नीतू कुमारी नवगीत के साथ राजन कुमार राज ने तबला पर और राजन कुमार ने कैसियो पर संगत किया। कार्यक्रम के दौरान बड़ी संख्या में भक्तगण पंडाल परिसर में उपस्थित रहे। मंच संचालन कला मंच के सचिव गौतम विश्वास ने किया।

यह भी पढ़ेंः नवरुणा के लापता होने का मामला सीबीआई भी नहीं सुलझा सकी

- Advertisement -