झारखंड के CM हेमंत की मेहनत रंग लाई, प्लेन से लौटेंगे 180 प्रवासी

0
117
CM हेमंत सोरेन का संकल्प है कि राज्य सरकार श्रमिकों के अधिकार से समझौता नहीं करेगी। CM हेमंत सोरेन ने कहा कि राष्ट्रीय सुरक्षा हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता है।
CM हेमंत सोरेन का संकल्प है कि राज्य सरकार श्रमिकों के अधिकार से समझौता नहीं करेगी। CM हेमंत सोरेन ने कहा कि राष्ट्रीय सुरक्षा हमारी सर्वोच्च प्राथमिकता है।

रांची। झारखंड के CM हेमंत सोरेन की मेहनत आखिरकार रंग लाई। प्लेन से कल रांची लौटेंगे 180 प्रवासी। CM हेमंत सोरेन के प्रयास से कल वे लौटेंगे। एयर एशिया के फ्लाइट से सुबह 8:15 बजे झारखंड के 180 प्रवासी मजदूर मुंबई से वापस अपने घर आ रहे हैं। इस पुनीत कार्य में एलुमनाई नेटवर्क ऑफ नेशनल  लॉ स्कूल,  बंगलोर द्वारा किये गए सहयोग की CM ने सराहना की है।

CM  हेमंत सोरेन प्रवासी मजदूरों की सहायता के अपने वादे को पूरा करने के लिये कृतसंकल्पित हैं। उन्होंने इस हेतु केंद्र सरकार से कई बार समन्वय भी स्थापित किया। उन्होंने पत्र के माध्यम से झारखंड के प्रवासी मजदूरों के हित के लिये केंद्र सरकार से आग्रह किया कि झारखंड के कई प्रवासी मजदूर जो दूर के अन्य राज्यों में फंसे है, जहाँ से उन्हें ट्रेन एवं बस के माध्यम से घर वापस लाना काफी कठिन हो रहा है, उन सभी जगहों से स्पेशल फ्लाइट के माध्यम से उन्हें राँची लाने की व्यवस्था करायी जाये। फ्लाइट से मजदूरों को घर वापस लाने हेतु मुख्यमंत्री ने गृह मंत्री अमित शाह से भी पत्र के माध्यम से आग्रह किया था।

- Advertisement -

मुख्यमंत्री के नेतृत्व में जहां एक ओर झारखंड में रह रहे जरूरतमंदों के रहने-खाने की व्यवस्था की जा रही है, वहीं राज्य के बाहर फंसे लोगों की घर वापसी के हर संभव प्रयास किये जा रहे हैं।  इसके साथ-साथ सरकार वापस आने वाले प्रवासी मजदूरों को रोजगार एवं स्वरोजगार से जोड़ने की दिशा में भी कार्य तेजी से कर रही है।

CM राहत कोष में 35 लाख रुपये का चेक सौंपा

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन से झारखंड मंत्रालय में झारखंड प्रशासनिक सेवा संघ के पदाधिकारियों ने मिलकर मुख्यमंत्री राहत कोष के लिए 35 लाख रुपए का चेक सौंपा।
मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन से झारखंड मंत्रालय में झारखंड प्रशासनिक सेवा संघ के पदाधिकारियों ने मिलकर मुख्यमंत्री राहत कोष के लिए 35 लाख रुपए का चेक सौंपा।

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन से झारखंड मंत्रालय में झारखंड प्रशासनिक सेवा संघ के पदाधिकारियों ने मिलकर मुख्यमंत्री राहत कोष के लिए 35 लाख रुपए का चेक सौंपा। झारखंड प्रशासनिक सेवा संघ के पदाधिकारियों ने यह राशि राज्य में कोरोना महामारी से बचाव, नियंत्रण तथा स्वास्थ्य सेवाओं में बेहतरी के लिए दी है। मुख्यमंत्री ने झारखंड प्रशासनिक सेवा के पदाधिकारियों द्वारा किए गए इस सामाजिक पहल की सराहना करते हुए संघ के सभी पदाधिकारियों एवं सदस्यों को धन्यवाद दिया।

इस अवसर पर संघ के अध्यक्ष राम कुमार सिन्हा ने कहा कि झारखंड प्रशासनिक सेवा संघ के विभिन्न जिलों के कई सदस्यों ने भी जिलों के उपायुक्तों से मिलकर आपदा राहत कोष में सहायता राशि दान दी है। उन्होंने कहा कि संघ के सभी सदस्य कोरोना संक्रमण की इस घड़ी में बढ़-चढ़कर अपना सामाजिक दायित्व प्रतिबद्धता के साथ निभा रहे हैं। इस अवसर पर झारखंड प्रशासनिक सेवा संघ के महासचिव यतींद्र प्रसाद, उपाध्यक्ष पवन कुमार, प्रताप किचिंगिया, अविनाश कुमार, सुधीर रंजन एवं अन्य मौजूद थे।

यह भी पढ़ेंः सुशील मोदी ने कहा- नरसंहारों का दौर हम नहीं लौटने देंगे

- Advertisement -