जहां महज 11 रुपये की गुरु दक्षिणा से बन जाते हैं क्लर्क से कलेक्टर  

0
255

वेद और पुराण की ज्ञाता तथा पटना में महज ₹11 के गुरु दक्षिणा में क्लर्क से लेकर कलेक्टर तैयार करने वाले अदम्या अदिति गुरुकुल के संस्थापक गुरु डॉक्टर एम रहमान बता रहे हैं कैसे सजगता से मिलती है सफलताः

लाइफ में अगर आपको एक महान यान successful इंसान बनना है तो आपको  मन लगा के पढना होगा। उसके लिए आपको अपने तरफ से एक अच्छी पढाई पढनी होगी। अब ऐसे में जब आपका पढाई में मन ही नहीं लगता तो आप एक अच्छी पढाई कैसे कर सकते हैं। तो में आपको इस पोस्ट में बताऊंगा की किस तरह आप अपनी पढाई में दिल लगा के पढ़ सकते है और इसको अपनी एक आदत बना सकते हैं।

- Advertisement -

आज के ज़माने में पढने का मन किसी को नहीं करता और अगर आप किसी के दबाव में आकर पढ़ रहे है तो फिर इससे आपको जिंदगी में कुछ मिलने वाला नहीं है आप अपने (parents) के दबाव में आके पढ़ तो लोगे  स्कूल कॉलेज पास भी, लेकिन जब तक आपके मन में पढने की इच्छा नहीं होगी तब तक आपका पढना बेकार है।

पढाई में मन लगाके पढने के फायदेः अगर आप किसी किताब को अच्छे से और मन लगाके पढ़ते हों तो आपको वो किताब जो पढ़ रहे हैं, उसे पढने में रूचि आने लगेगी और फिर आपको जल्दी समझ आने लगेगा। अगर आप ध्यान लगाके पढ़ते हों तो आपको कोई भी टॉपिक जल्दी याद होगी। आपको नींद नहीं लगेगी। जब आप ध्यान से पढेंगे तो पढाई में मन लगा के।

ना पढ़ने के नुकसानः अगर आप पढ़ते वक्त ध्यान से नहीं पढोगे तो जो आपने याद किया वो आप अगले दिन भूल जाओगे। अगर आप पढ़ते वक्त इधर उधर देखोगे या ध्यान से नहीं पढोगे तो आपको पढाई बोअरिंग (Boring) लगने लगेगी। आप जो पढ़ रहे हैं, उसे याद करने या समझने में टाइम लगेगा। अगर ध्यान लगाके नहीं पढोगे तो आपको नींद आनी शुरू हो जायेगी।

तो अब आप दोनों के बीच में अंतर देख सकते हैं। अगर आप जब पढ़ रहे हैं, उस वक्त आपने पढाई में ध्यान नहीं लगाया तो आपको क्या क्या नुकसान हो सकते हैं। नुकसान सहने से अच्छा है कि पढ़ते वक्त हम अपना ध्यान सिर्फ और सिर्फ पढाई में लगायें।

पढाई में मन लगाने के तरीकेः 1.टाइम टेबल (Time Table) बनाये पढने के लिए। जब आप class जाते हो, वहां आपको जो भी टीचर पढ़ाने आता है तो उनकी एक समय सारणी होती है, जिसे हम टाइम टेबल भी कहते हैं। उसी टाइम टेबल के अन्दर अध्यापक आपको पढ़ाने के लिए आता है। इसी प्रकार आपको भी अपने स्टडी के लिए एक समय सारणी बनानी है और इसी समय सारणी को आपको रोजमर्रा  की जिंदगी में अपनाना है। जब आप एक टाइम टेबल को फॉलो करते है तो इसके आपको बहोत फायदे होंगे।

ध्यान रखें : शुरुआत में आपको ज्यादा देर तक पढाई नहीं करनी है। अगर आपको पढने में बिलकुल रूचि नहीं है और आपने अभी-अभी पढने के लिए मन बनाया है तो आपको शुरुआत में एक दिन में सिर्फ 1 या 2 घंटे पढना है। ऐसा करने से आपको पढाई में मन लगने लगेगा।  धीरे धीरे आप इस समय अवधि को बढ़ा सकते हैं, लेकिन याद रखें शुरुआत में आपको ये गलती नहीं करनी, जो लोग करते हैं। ज्यादातर लोग शुरू में ही 4-5 घंटे पढने लग जाते हैं, जबकी आपको इतनी देर तक पढने की आदत नहीं है। फिर भी आप पढ़ते हैं तो ऐसे में आपको कुछ समझ नहीं आएगा और आपने जो पढ़ा है वो भी आप भूल जाओगे तो ये गलती आप न करें।

टाइम टेबल बनाके पढने के फायदे : जब आप टाइम टेबल बनाके पढेंगे तो आपको पता होगा की कब क्या पढना है। टाइम को मैनेज कर पाएंगे।ग्रुप बना कर पढ़ें (Group Study)। अगर आपको पढाई करने का बिलकुल भी मन नहीं करता है तो आप ग्रुप स्टडी यानि की अपने दोस्तों, क्लास मेट के साथ बैठ के पढने की कोशिश करें। ऐसा करने से जब आप पढने बैठोगे तो आप बोर नहीं होगे क्योंकि आपके साथ आपके क्लास मेट दोस्त होंगे, जिनसे आप बीच बीच में हंसी मजाक कर सकते हो।  इससे पढाई में मन लगने लगेगा।

ग्रुप स्टडी करने के फायदे : पढ़ते वक्त कभी बोर नहीं होगे। जल्दी समझ में आएगा। प्रॉब्लम शेयर और डिसकस (discuss) कर सकते हो। हमेशा नोट्स बना के पढ़ें। जब भी आप पढने बैठें तो याद रखें, जो भी आपने पढ़ा है, उसके नोट्स बना लें। नोट्स बनाने से आपको जल्दी समझ में आ जायेगा और यही स्टडी नोट्स आपको एग्जाम (Exam) में बहुत मदद करता है और अगर आप बाद में कुछ भूल जाते हैं तो आप नोट्स से देख के आसानी से समझ सकते हैं और ये आपको पढाई में मन लगा के पढने मई बहुत मदद करता है।

यह भी पढ़ेंः डेढ़ सौ साल बाद दलित टोले में मैट्रिक पास हुई कोमल

 

- Advertisement -