जरूरत के लिए जमीन बेची, पैसे नहीं मिले तो दे दी जान

0
117
आत्महत्या के कारणों की तफ्तीश करती पुलिस
आत्महत्या के कारणों की तफ्तीश करती पुलिस

छपरा। जरूरत के लिए जमीन बेची, पैसे नहीं मिले तो फांसी लगा कर दे दी जान। घटना सारण जिले के मढ़ौरा थानाक्षेत्र के मुबारकपुर की बतायी जाती है। जमीन बिक्री की राशि नहीं मिलने की वजह से एक युवक ने आत्महत्या कर ली। सूचना मिलते ही पुलिस ने घटना स्थल पर पहुंच कर शव को कब्जे में लेकर प्राथमिकी दर्ज की और शव को पोस्टमार्टम हेतु छपरा भेज दिया।

मिली जानकारी के अनुसार मुबारकपुर गांव के 38 वर्षीय परमहंस सिंह ने रस्सी का फंदा लगा कर अपनी जान दे दी। घटना के बारे में मृतक के बड़े भाई हरवंश सिंह ने मामला दर्ज कराया है। हरवंश के अनुसार उनके भाई को अपनी जमीन  बेचने के बाद पैसा नहीं मिला था। जिसकी वजह से वह तनाव में रहता था। उसने अपने रिश्ते के भतीजे को ही लगभग 6 कट्ठा अपनी जमीन रजिस्ट्री की थी। इसके बदले 9 लाख रुपये उसे मिलने वाले थे।

- Advertisement -

जमीन लिखवाने के बाद भतीजे की नीयत ही खराब हो गई। पैसा मांगने पर उसके घर वालों ने रोजाना बीस-चालीस रुपये देकर टालना शुरू कर दिया था। इसकी परिणति आत्महत्या के तौर पर सामने आयी। मृतक के बड़े भाई ने बताया कि शुक्रवार की दोपहर घर के पास एकांत में एक नींबू के पेड़ के नीचे परहंस आराम कर रहा था। बाजार से वापस जाने के क्रम में उससे खाने के बारे में पूछा तो उसे कोई जवाब नहीं दिया। दस मिनट के बाद किसी ने घटना की सूचना दी।

बहरहाल स्थानीय पुलिस अवर निरीक्षक मिथिला सिंह ने मौके पर पहुंच कर शव को अपने कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम हेतु छपरा भेज दिया। उन्होंने बताया कि मृतक ने आत्महत्या के लिए प्लास्टिक की रस्सी एवं खाट का इस्तेमाल किया। उसका शव नींबू के पेड़ से लटका पाया गया। मृतक ने आत्महत्या में सफेद रंग की रस्सी का इस्तेमाल किया। मृतक के बड़े भाई हरवंश सिंह ने स्थानीय थाने में मुबारकपुर निवासी राजेश्वर सिंह, उनकी पत्नी प्रतिमा देवी एवं पुत्र आदर्श कुमार खिलाफ आत्महत्या करने के लिए मजबूर करने का मामला दर्ज कराया है। आवेदन के अनुसार नामजद अभियुक्तों द्वारा मृतक से लगभग दो माह पहले जमीन लिखवा कर जमीन का मूल्य नहीं देने की वजह से मृतक ने आत्महत्या की। थानाध्यक्ष के अनुसार प्राथमिकी दर्ज कर मामले की छानबीन की जा रही है।

यह भी पढ़ेंः

बिहार के पथ-पुल निर्माण की कई योजनाओं पर केंद्र की सहमति

बिहार में 8000 सहायक प्राध्यापकों की नियुक्ति जून 2020 के पूर्व

रेप..रेप..रेप, मासूम बच्चियां बन रही दरिंदगी का शिकार

- Advertisement -