गंगा में सगी 2 बहनें डूबीं, 1 बचा ली गयी, पर दूसरी की मौत

0
255

बेगूसराय। शहर के रतनपुर ओपी थाना क्षेत्र के वार्ड नंबर 21 मुहल्ला निवासी किसान संजीव कुमार की दो बेटियों के साथ घर की अन्य महिलाएं  गुरुवार की सुबह 6:30 बजे के करीब एक टैंपू कर के तीज का चौरा गंगा नदी में  विसर्जन करने के लिए गयी थीं। जहां तीज का चौरा गंगा नदी में विसर्जन करने के बाद दोनों सगी बहनें शबनम कुमारी उर्फ छोटी उम्र (21 वर्ष) और उसकी छोटी बहन सुहानी कुमारी (उम्र 15 वर्ष) गंगा घाट के पास सड़क के बगल में बने भमड़ा के निकट स्नान कर रही थीं। इसी दौरान शबनम कुमारी उर्फ छोटी और सुहानी कुमारी दोनों बहनों के पैर फिसल गये। गंगा नदी की गहरी और धारा के कारण सड़क पर बने भंवर के नीचे होकर दोनों बहन गंगा नदी के गहरे पानी में चली गईं।

घाट पर स्नान कर रही अन्य महिलाओं ने जोर-जोर से डूबने का शोर मचाने लगीं। शोर मचाने की आवाज सुन कर सिहमा गांव के तीन युवकों- राजन कुमार, केशव कुमार और भोला कुमार ने अपनी जान की बाजी लगाकर गंगा नदी में छलांग लगा दी। डूबती हुई 10वीं की छात्रा सुहानी कुमारी को तीनों ने मिलकर डूबने से बचा लिया। वहीं दूसरी बहन शबनम कुमारी उर्फ छोटी गंगा नदी की तेज धारा के कारण गहरे पानी में चली गयी और उसकी मौत पानी में डूबने से हो गई।

- Advertisement -

यह भी पढ़ेंः तीज व्रतधारी 4 महिलाओं को स्कार्पियो ने रौंदा, 2 की मौत

घटना की सूचना मिलते ही मटिहानी थाना की पुलिस अपने दल बल के साथ घटनास्थल पर पहुंची। शबनम कुमारी उर्फ छोटी के शव को स्थानीय गोताखोरों द्वारा खोजबीन करायी गयी। लेकिन कोई अता पता नहीं चला है।

अब दुधमुहाँ बच्चा रुद्र कय केय पालतय गेय छोटी

सिहमा डीह गंगा घाट में  स्नान करने के दौरान डूब कर शबनम कुमारी उर्फ छोटी की मौत की खबर रतनपुर गांव के लोगों को मिलते ही पूरे गांव में शोक की लहर दौड़ गई। परिजनों का रो-रोकर हाल बुरा है। शबनम कुमारी अपने पति की लंबी आयु के लिए 24 घंटे का निर्जला व्रत बुधवार को रखकर तीज का चौरा सुबह में भसाने के लिए गंगा घाट पर गयी थी। जहां स्नान करने के दौरान गहरे पानी में चले जाने के कारण घटनास्थल पर ही उसकी मौत डूब कर हो गई।

यह भी पढ़ेंः बेगूसराय में बेलगाम हुए अपराधी, दवा दुकानदार की हत्या

शबनम कुमारी उर्फ छोटी के भाई राहुल कुमार ने पूछने पर बताया कि मेरी बहन की शादी 2 वर्ष पहले मुंगेर जिला के महेशपुर गांव निवासी प्रणव कुमार के साथ हुई थी। तीज पर्व को लेकर मेरे जीजा भी रतनपुर गांव ससुराल एक  दिन पहले आए थे, लेकिन अपनी पत्नी के गंगा नदी में डूबने की खबर मिलते ही उनका भी रो-रो कर हाल बुरा है। वहीं लड़की की मां रुक्मिणी देवी अपनी बेटी छोटी का नाम पुकार कर रोते-रोते बेहोश हो जा रही थी। वह कहती है कि अब हमारा रुद्र 6 महीना केय नाती कय केय पोशतैय पालतैय गेय छोटी।  घर के आसपास के सैकड़ों लोग उनके घर पर पहुंचकर उन्हें ढाढ़स बंधाने का अथक प्रयाह कर रहे थे, लेकिन उनका दहाड़ मार कर रोना नही रुक रहा था।

- Advertisement -