कोरोना से हुए लाक डाउन में राहत सामग्री बंटवा रहे हैं अजय यादव

0
212
कोरोना की वजह से हुए लाक डाउन में आरएसएस से डुड़े अजय यादव कई राज्यों में घूम-घूम कर राहत सामग्री बंटवा रहे हैं। बिहारियों के लिए मसीहा बने हुए हैं।
कोरोना की वजह से हुए लाक डाउन में आरएसएस से डुड़े अजय यादव कई राज्यों में घूम-घूम कर राहत सामग्री बंटवा रहे हैं। बिहारियों के लिए मसीहा बने हुए हैं।

पटना। कोरोना से हुए लाक डाउन में आरएसएस से डुड़े अजय यादव कई राज्यों में घूम-घूम कर राहत सामग्री बंटवा रहे हैं। बिहारियों के लिए मसीहा बने हुए हैं। कोरोना वायरस को लेकर हुए लॉक डाउन की वजह से बिहार से बाहर फंसे हुए प्रवासी मजदूरों, जो प्रतिदिन कमाते-खाते हैं, के आगे भुखमरी की समस्या पैदा हो गयी है। सम्पूर्ण देश मे बिहार के लोग सबसे अधिक हैं। खासकर सारण जिले के लोग सबसे ज्यादा विभिन्न प्रदेशों में मजदूरी एवं रोजगार कर जीवन- यापन कर रहे हैं। लॉक डाउन के 39 दिन बीतने के कारण मजदूरों एवं आम लोगो को राशन सामग्री की भारी दिक्कत हो रही है।

सेवा ही धर्म है और कोई भूखा न रहे के संकल्प को अपने जीवन का ध्येय बना चुके सारण जिले के मशरक प्रखंड के सिकटी गांव के निवासी राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रांत संपर्क टोली सदस्य एवं गंगा समग्र अभियान के प्रदेश संयोजक अजय यादव केवल सारण जिले के प्रवासी मजदूरों को ही नहीं, बल्कि सारण प्रमंडल सहित पूरे बिहार के प्रवासी मजदूरों को विभिन्न माध्यमों से हर संभव राशन सामग्री समेत अन्य सुविधाएं मुहैया करवा रहे हैं।

- Advertisement -

यह भी पढ़ेंः सीता ने पृथ्वी से अपने को अपनी गोद में ले लेने की जब प्रार्थना  की

विभिन्न माध्यमों से प्राप्त सूचना के आधार पर दिल्ली, आंध्रप्रदेश, कर्नाटक, चेन्नई, पंजाब, गुजरात, दादर नगर हवेली, मुम्बई, बंगाल, महाराष्ट्र, आसाम, उड़ीसा, केरल के हजारो लोगों को अभी तक राशन सामग्री मुहैया करवायी गयी है। सारण जिले के बनियापुर, मशरक, तरैया, पानापुर, इसुआपुर, अमनौर, परसा, मढ़ौरा के लगभग 4 हजार लोगों को राशन सामग्री उपलब्ध करा चुके हैं। मशरक के सिकटी गोला के राजू महतो को वडोदरा (गुजरात) में, मशरक के कवलपुरा के अवधेश यादव को हरियाणा के रेवाड़ी में, तरैया के गंडार के परशुराम राय को नई दिल्ली के नरेला में, अमनौर के खोरीपाकर के झूलन राय, मिथिलेश राय सहित 25 लोगों को नई दिल्ली के हरिनगर में कच्चा राशन सहित जरूरत की सामग्री उपलब्ध करवायी है। सभी प्रवासी मजदूरों ने राशन सामग्री प्राप्त होने पर अजय यादव को धन्यवाद दिया है और कहा कि संकट की घड़ी में ही अपनों की पहचान होती है।

यह भी पढ़ेंः मिड डे मील के 378 करोड़ रुपये 1.29 करोड़ बच्चों के खाते में भेजे गये

श्री यादव ने कहा कि लाक डाउन में स्पेशल ट्रेन की मांग राज्य सरकारें कर रही थीं। इसकी इजाजत मिल गई है। उन्होंने प्रधानमंत्री एवं गृह मंत्री सहित बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी, भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. संजय जायसवाल को धन्यवाद देते हुए कहा कि इससे प्रवासी श्रमिकों, छात्रों, तीर्थ यात्रियों और पर्यटकों को अपने गंतव्य स्थानों पर आसानी से जाने में सहूलियत होगी। लाक डाउन की वजह से दूसरों राज्यों में रह रहे प्रवासी श्रमिक, छात्र, तीर्थयात्री पर्यटकों को वहां की राज्य सरकारें हर संभव मदद उपलब्ध करा रही हैं।

यह भी पढ़ेंः कोविड- 19 से आर्थिक तबाही की ओर तेजी से बढ़ रही दुनिया

कोरोना को ले बिहार सरकार ने भी बड़े पैमाने पर सभी राज्यों में व्यवस्था कराई हुई है। नोडल अधिकारियों की भी नियुक्ति की गई है, ताकि बिहार के जो श्रमिक, छात्र, तीर्थयात्री और  श्रद्धालु पर्यटक विभिन्न राज्यों में लॉक डाउन की वजह से रुके हुए हैं, उन्हें किसी तरह की परेशानी ना हो। अब स्पेशल ट्रेन चलाए जाने से उन सभी को काफी राहत मिलेगी। इस दौरान जो लाक डाउन के दिशानिर्देश है, उसका भी पालन करने को कहा गया है। मौजूदा समय में अधिक सतर्क एवं सजग रहने की आवश्यकता है। यात्रा के दौरान भी सावधानी बरतने की जरूरत होगी। श्री यादव ने सभी से अपील की कि इस समय सभी को धैर्य एवं संयम से कोरोना के विरुद्ध जंग को लड़ना है और उसमें जीत हासिल करनी है। सरकार सभी के लिए चिंतित है।  राहत पहुंचाने के लिए हर संभव कदम उठाए जा रहे हैं। सभी दिशा निर्देशों का पालन करते हुए सभी को सहयोग देने की आवश्यकता है।

यह भी पढ़ेंः लॉकडाउन से प्रभावित गरीब-बेघरों को 12वें दिन खाना खिलाया

- Advertisement -