कोरोना से बचाव व लॉकडाउन के कारण बिहार में 8,538 करोड़ खर्च

0
18
कोरोना से बचाव व लॉकडाउन को ध्यान में रखते हुए बिहार सरकार ने अभी तक 8,538 करोड़ रुपये से अधिक की राशि खर्च की है। लोगों को अनेक प्रकार से राहत पहुंचाई जा रही है।
कोरोना से बचाव व लॉकडाउन को ध्यान में रखते हुए बिहार सरकार ने अभी तक 8,538 करोड़ रुपये से अधिक की राशि खर्च की है। लोगों को अनेक प्रकार से राहत पहुंचाई जा रही है।

पटना। कोरोना से बचाव व लॉकडाउन को ध्यान में रखते हुए बिहार सरकार ने अभी तक 8,538 करोड़ रुपये से अधिक की राशि खर्च की है। लोगों को अनेक प्रकार से राहत पहुंचाई जा रही है। लोगों को राहत प्रदान करने में इसके अलावा प्राकृतिक आपदा से किसानों की जो फसल क्षति हुई है, उसके लिए 730 करोड़ रूपये स्वीकृत किये गये हैं। कोरोना उन्मूलन कोष का गठन किया गया है। इसमे करीब 180 करोड़ रूपये का प्रावधान कोविड संक्रमण से निपटने के उपायों एवं स्वास्थ्य संबंधी उपकरणों एवं दवाओं की खरीद के लिए किया गया है।

सचिव, सूचना एवं जन-संपर्क अनुपम कुमार ने बताया कि कोरोना के अलावा प्राकृतिक आपदा से किसानों की जो फसल क्षति हुई है, उसके लिए 730 करोड़ रूपये स्वीकृत किये गये हैं। कोरोना उन्मूलन कोष का गठन किया गया है। इसमे करीब 180 करोड़ रूपये का प्रावधान कोविड संक्रमण से निपटने के उपायों एवं स्वास्थ्य संबंधी उपकरणों एवं दवाओं की खरीद के लिए किया गया है।

- Advertisement -

बिहार में अभी ब्लॉक क्वारंटाइन सेंटर्स की संख्या 4,106 है। इनमें 93 हजार 217 लोग आवासित हैं। ब्लॉक क्वारंटाइन सेंटर्स में अब तक 15 लाख 22 हजार 582 लोग आवासित हो चुके हैं। इनमें से 14 लाख 29 हजार 365 लोग क्वारंटाइन की निर्धारित अवधि पूरी कर अपने घर वापस जा चुके हैं। मुख्यमंत्री आपदा राहत कोष से मुख्यमंत्री विशेष सहायता योजना अंतर्गत लॉकडाउन के कारण बाहर फंसे बिहार के 20 लाख 90 हजार 355 लोगों के खाते में प्रति व्यक्ति 1,000 रूपये की सहायता राशि भेजी जा चुकी है। बाहर रहने वाले बिहार के लोगों के अब तक 2.39 लाख कॉल्स/ मैसेजज प्राप्त हुए हैं, जिनमें 31 लाख 76 हजार लोग सम्मिलित थे। अब लगभग सभी लोग बिहार पहुँच चुके हैं, इसलिए बाहर से लोगों के कॉल्स/ मैसेजेज नहीं के बराबर आ रहे हैं।

कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या 5,583 हुई

स्वास्थ्य विभाग के सचिव लोकेश कुमार सिंह ने बताया कि अब तक कुल 1 लाख 9 हजार 483 सैंपल्स की जांच की गयी है और अब कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या 5,583 हो गयी है। पिछले 24 घंटे में कोरोना के 219 नये पॉजिटिव मामले सामने आये हैं। 24 घंटे में 164 लोग स्वस्थ हुए हैं। अब तक कुल 2,934 कोरोना संक्रमित मरीज ठीक होकर अपने घर वापस जा चुके हैं जो कुल संक्रमित व्यक्तियों का 52 प्रतिशत है। बिहार के 38 जिलों में कोरोना संक्रमण के 2,614 एक्टिव मामले हैं। 3 मई के बाद बाहर से बिहार आने वाले लोगों में से 3,989 व्यक्तियों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुयी है जो कुल संक्रमित व्यक्तियों का 71 प्रतिशत है। 24 घंटे में एक 59 वर्षीय कोरोना संक्रमित व्यक्ति की मौत हुई है । जो महाराष्ट्र से आये थे और वे हाइपरटेंशन, डायबिटीज जैसी अन्य बीमारियों से भी ग्रसित थे।

सचिव, स्वास्थ्य ने कहा कि स्वास्थ्य विभाग लगातार अपनी टेस्टिंग क्षमता बढ़ा रहा हैं और अन्य जिलों में भी इसका विस्तार किया जा रहा हैं। विभाग द्वारा आर0एम0आर0आई0, ए0आई0आई0एम0एस0, आई0जी0आई0एम0एस, पी0एम0सी0एच, डी0एम0सी0एच, एस0के0एम0सी0एच0 में कोरोना की आर0टी0पी0सी0आर जांच की जा रही है। इसके अलावा सी0बी0 नेट जांच भागलपुर में हो रही है। साथ ही कई जिलों में ट्रू-नेट मशीन से भी जांच की जा रही है। वर्तमान में कुल 32 जिलों सीतामढ़ी, वैशाली, शिवहर, अररिया, शेखपुरा और समस्तीपुर जिले को छोड़कर में कोविड-19 की जांच हो रही है, कल तक दो और जिले इसमें शामिल हो जायेंगे। आगामी 13 जून तक सभी जिलों में कोविड-19 की जांच प्रारंभ हो जाएगी।

 

- Advertisement -