कांग्रेस ने पहले सेना के शौर्य पर सवाल उठाया, अब कोरोना टीके पर संदेह

0
394
मधुबनी नरसंहार पर सुशील कुमार मोदी ने कहा है कि RJD जातीय द्वेष भड़काना चाहता है। नरसंहार के 5 आरोपी नेपाल में पकड़े गये हैं।
मधुबनी नरसंहार पर सुशील कुमार मोदी ने कहा है कि RJD जातीय द्वेष भड़काना चाहता है। नरसंहार के 5 आरोपी नेपाल में पकड़े गये हैं।

पटना। कांग्रेस ने सेना के शौर्य पर पहले सवाल उठाया अब वह कोरोना टीके पर संदेह फैलाने पर उतारू है। पूर्व डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी ने यह कहा है। सुशील कुमार मोदी ने कहा कि कोरोना की रोकथाम के लिए बने वैक्सीन को फ्रॉड बताने वाले बयान पर राहुल गांधी को सफाई देनी चाहिए।

मोदी ने कहा कि नये साल के साथ कोरोना का टीका उपलब्ध होने की खबर से जब देशवासियों में जीवन के प्रति उत्साह की लहर है, तब कांग्रेस और सपा जैसे दलों ने नई वैक्सीन और इसे विकसित करने वाले चिकित्सा वैज्ञानिकों के प्रति अविश्वास पैदा करने की मुहिम छेड दी है। जो लोग वोट बैंक की राजनीति के चलते सेना के शौर्य पर सवाल उठा रहे थे, वही कोरोना टीका पर भी संदेह पैदा करने वालों के साथ खडे हो गए।

- Advertisement -

मोदी ने आरोप लगाया कि कुछ बयान उन मौलानाओं के दबाव में दिये गए हैं, जो कोरोना वैक्सीन को गैरइस्लामिक बता रहे हैं। राहुल गांधी बतायें कि क्या वे वैक्सीन को फ्रॉड बताने वाले सलमान निजामी के बयान से सहमत हैं? जो काम पूरे वैज्ञानिक तरीके से किया गया है और कई चरणों में जिस टीके का ट्रायल हुआ है, उस पर संदेह करना कितना उचित है।

उन्होंने कहा कि नये साल के पहले सप्ताह में कोरोना के टीके उपलब्ध होना केंद्र सरकार की बडी उपलब्धि है। इसके लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लगातार मानिटरिंग की और हैदराबाद तथा पुणे की प्रयोगशालाओं में जा कर वैज्ञानिकों का उत्साह बढाया था। आलोचना करने के दूसरे बिंदु हो सकते हैं, लेकिन टीके पर संदेह जताना कांग्रेस व सपा को शोभा नहीं देता।

यह अत्यंत दुर्भाग्यपूर्ण है कि जो चिकित्सकीय सफलता किसी व्यक्ति का रंग, लिंग, बिरादरी और मजहब का भेदभाव किये बिना सम्पूर्ण मानवता के काम आयेगी, उस पर भी शशि थरूर और अखिलेश यादव जैसे लोगों ने राजनीतिक बयानबाजी शुरू कर दी! स्वदेशी कोरोना वैक्सीन के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन और सभी चिकित्सा वैज्ञानिकों को बिहार की जनता की ओर से मोदी ने विनम्र आभार भी जताया है।

यह भी पढ़ेंः सुशील मोदी- दिल्ली का किसान आंदोलन भारत विरोधी ताकतों का हथियार (Opens in a new browser tab)

- Advertisement -