एडवांटेज डायलाग डिजिटल प्लेटफार्म (वेबिनार) 25 अप्रैल से

0
221
एडवांटेज डायलाग डिजिटल प्लेटफार्म (वेबिनार) कोरोना के इस संक्रमण काल में ही 25 अप्रैल से शुरू होगा, जो इस साल दिसंबर तक चलेगा।
एडवांटेज डायलाग डिजिटल प्लेटफार्म (वेबिनार) कोरोना के इस संक्रमण काल में ही 25 अप्रैल से शुरू होगा, जो इस साल दिसंबर तक चलेगा।

पटना। एडवांटेज डायलाग डिजिटल प्लेटफार्म (वेबिनार) कोरोना के इस संक्रमण काल में ही 25 अप्रैल से शुरू होगा, जो इस साल दिसंबर तक चलेगा। बिहार की अग्रणी पी.आर. और इवेंट मैनेजमेंट कंपनी एडवांटेज ग्रुप ने कोरोना वायरस महामारी से बचाव के लिए देशव्यापी लाक डाउन के दौरान तथा इसके बाद की स्वास्थ्य तथा आर्थिक स्थिति को पटरी पर लाने के लिए देश के अपने-अपने क्षेत्र के विद्वानों की राय जानने के लिए ‘एडवांटेज डायलाग: ओपिनियन डैट्स मैटर्स’ नामक आनलाइन बातचीत का प्लेटफार्म तैयार किया है। यह बातचीत गूगल मीट एप पर होगी।

इस कार्यक्रम में भाग लेने के लिए लोगों को अपने आपको रजिस्टर्ड करना होगा। इसके बाद गूगल मीट एप का लिंक मिलेगा। यह रजिस्ट्रेशन फ्री होगा। पहले आओ, पहले पाओ की तर्ज पर जितना जल्दी आप अपने को रजिस्टर्ड करेंगे, उतना आपका स्थान सुरक्षित रहेगा। यह कार्यक्रम शनिवार 25 अप्रैल 2020 से शुरू होगा, जो दिसम्बर तक चलेगा। सप्ताह के हर शनिवार और रविवार को यह डायलाग होगा। इसके 24 एपिसोड होंगे। बिहार इंडस्ट्रीज एसोसिएशन, पुतुल फाउंडेशन, इवेंट एंड इंटरटेनमेंट मैनेजमेंट एसोसिएशन और अभिप्रेरणा इस कार्यक्रम को अपना सहयोग दे रहे हैं। इस कार्यक्रम में भाग लेने वाले आनलाइन प्रश्न भी पूछ सकेंगे।

- Advertisement -

यह जानकारी देते हुए एडवांटेज ग्रुप के संस्थापक और सी.ई.ओ. खुर्शीद अहमद ने बताया कि लाक डाउन के दौरान सभी लोग अपने घर में हैं। कोरोना वायरस का नाम सुनकर सभी परेशान हैं। बाहर निकलना संभव नहीं है। इसलिए हमने डिजिटल प्लेटफार्म पर डायलाग का आयोजन किया है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व में विकास के पथ पर अग्रसर बिहार समेत पूरा देश कोरोना को लेकर काफी परेशान है। राज्य और देश में सभी तरह की गतिविधियां ठप हैं। लाक डाउन से सबसे बड़ा आघात आर्थिक स्थिति को लगने की संभावना व्यक्त की जा रही है।

बिहार 10 प्रतिशत वृद्धि की दर से आगे बढ़ रहा था, लेकिन कोरोना के कारण सरकार पर बोझ काफी बढ़ गया है। कामगार अपने घर में रहने को मजबूर हैं। ऐसे में स्थिति काफी शोचनीय हो सकती है। इसलिए हमने देश के बड़े-बड़े विद्वानों की राय आन लाइन जानने की व्यवस्था की है। यह डायलाग सप्ताह के हर शनिवार और रविवार को दो सेशन में 12 बजे दिन से 12.45 बजे तक तथा दूसरा सेशन 4.30 बजे शाम से 5.15 बजे तक चलेगा। शुरूआती सेशन 25 अप्रैल को होगा, जिसमें दिन के 12 बजे से पारस एचएमआरआई हास्पिटल के जेनरल सर्जरी के डायरेक्टर डा. ए.ए. हई से बात करेंगी मीडिया एक्सपर्ट डा. रत्ना पुरकायस्थ। डा. हई बिहार के प्रसिद्ध सर्जन तथा सामाजिक कार्यकर्ता हैं। यह सेशन 45 मिनट का होगा।

यह भी पढ़ेंः कोरोना के लाक डाउन में समय बिताने के एक से बढ़ कर एक तरीके

दूसरा सेशन शाम के 4.30 बजे से होगा, जिसमें पूर्व भारतीय क्रिकेटर तथा बी.सी.सी.आई. के महाप्रबंधक सैयद सबा करीम से बात करेंगी वक्ता, लेखक और एंकर गीतिका गंजूधर, जो मुम्बई की रहने वाली हैं। यह सेशन भी 45 मिनट का होगा। आगे के कार्यक्रमों में गूंज के संस्थापक अंशु गुप्ता, बालीवुड और टी.वी. कलाकार राजेश कुमार, कोका-कोला इंडिया के वाइस प्रेसिडेंट इश्तेयाक अमजद, पी.आर.सी.ए.आई. और आई.सी.सी.ओ. के अध्यक्ष नितिन मंत्री, बालीवुड कलाकार क्रांति प्रकाश झा, एक्टर एंड मेंटर रोशन अब्बास, बिहार इंडस्ट्रीज एसोसिएशन के अध्यक्ष राम लाल खेतान, एडुकेटर एंड मेंटर सैयद सुल्तान अहमद, जर्नलिस्ट नगमा सेहर, हैदराबाद से रिनाउन्ड जर्नलिस्ट दीपिका महेंद्रु, पूर्व राश्ट्रपति स्वर्गीय ए.पी.जे. अब्दुल कलाम के पूर्व प्रेस सचिव तथा डायरेक्टर जेनरल रजिस्ट्रार न्यूज पेपर फार इंडिया एस.एम. खान अपने-अपने विचार व्यक्त करेंगे।

यह भी पढ़ेंः सुशील कुमार मोदी ने बिहार की ऋण सीमा बढ़ाने की मांग की

- Advertisement -