इम्युनिटी बूस्टिंग के लिए लगातार काम कर रही झारखंड सरकार

0
131
इम्युनिटी बूस्टिंग के लिए झारखंड सरकार लगातार काम कर रही है।  सीएम हेमंत सोरेन के नेतृत्व में इम्युनिटी बुस्टिंग पर खासा ध्यान दिया जा रहा है।
इम्युनिटी बूस्टिंग के लिए झारखंड सरकार लगातार काम कर रही है।  सीएम हेमंत सोरेन के नेतृत्व में इम्युनिटी बुस्टिंग पर खासा ध्यान दिया जा रहा है।

रांची। इम्युनिटी बूस्टिंग के लिए झारखंड सरकार लगातार काम कर रही है।  सीएम हेमंत सोरेन के नेतृत्व में इम्युनिटी बुस्टिंग पर खासा ध्यान दिया जा रहा है। झारखंड सरकार की ओर से कोविड-19 महामारी के संक्रमण को रोकने के लिये बहुतेरे प्रयास किये जा रहे हैं। सरकार मुख्य रूप से लोगों के इम्युनिटी बूस्टिंग पर ध्यान दे रही है।

कोरोना वायरस संक्रमण की रोकथाम हेतु किये जा रहे इन प्रयासों में सोशल डिस्टेंसिंग के साथ-साथ आमजनों की सुविधाओं का भी खास खयाल रखा जा रहा है। सरकार लोगों को क्वारंटाइन सेंटर में रखकर रोजाना ऐसे पौष्टिक आहार दे  रही है, जिससे लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ सके। इस बाबत विभिन्न जिलों में उपायुक्तों द्वारा बराबर क्वारंटाइन सेंटर्स की मानीटरिंग भी की जा रही है।

- Advertisement -

राज्य के बाहर से काफी संख्या में प्रवासी मजदूर अपने घर वापस आ रहे हैं। इस संदर्भ में झारखंड सरकार सोशल पुलिसिंग के द्वारा प्रत्येक घर तक लोगों को जागरूक करने का कार्य कर रही है। कोरोना संक्रमण से बचने के लिये लोगों को जागरूक करने के लिये भी कार्य किया जा रहा है।

जब तक लोग खुद कोरोना से बचाव के लिए जागरूक नहीं होगें, इससे बच पाना संभव नहीं है। लोगों को जागरूक करने के लिये सरकार द्वारा ग्राम प्रमुख, मुखिया, आंगनवाड़ी सेविका, सहिया, चौकीदार, स्कूल कमिटी, शिक्षक आदि को घर-घर तक जानकारी पहुंचाने और उन्हें कोरोना वायरस से बचाव के क्रम मे कैसे रहना है, इस ओर प्रेरित करने का कार्य किया जा रहा है।

हाल में लोगों की कोरोना जांच के लिये राज्य के विभिन्न जिलों में नई ट्रूनेट मशीन लगा दी गयी हैं। इस मशीन के स्थापित होने से जांच की प्रक्रिया में तेजी आई है। सरकार द्वारा संक्रमितों के सेहत हेतु उनका अच्छे से देखभाल किया जा रहा, जिससे राज्य में पूरे देश के मुकाबले डेथ रेट 0.93 प्रतिशत है। वहीं रिकवरी रेट 42.10 प्रतिशत हो गई है।

आयुर्वेदिक इम्युनिटी बूस्टर काढ़ा तैयार किया 

लोगों में रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिये जिला आयुष कार्यालय गुमला द्वारा 4 मुख्य सामग्रियों के मिश्रण से आयुर्वेदिक इम्युनिटी बूस्टर काढ़ा तैयार किया गया है। यह आयुर्वेदिक इम्युनिटी बूस्टर काढ़ा कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव एवं रोकथाम में सहायक रहेगा। इस काढ़े का रोजाना 2 से 3 बार सेवन करने से रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ा सकते हैं।

यह भी पढ़ेंः सीएम हेमंत की अपील- बुजुर्ग बैंकों में पैसे के लिए घंटों रहने से बचें

मिश्रण में इस्तेमाल की गई सामग्रियां जैसे तुलसी, दालचीनी, सौंठ एवं गोलमिर्च में कई औषधीय गुण पाए जाते हैं, जो कोरोना वायरस के साथ-साथ खांसी, सर्दी जैसे कई रोगों से हमें बचाता है। आने वाले दिनों में यह आयुर्वेदिक काढ़ा जिले के तमाम कोविड केयर सेंटर एवं क्वारंटाइन केंद्रों में रहने वाले श्रमिक बंधुओं व अन्य लोगों तथा जिले के सभी सरकारी एवं गैर सरकारी कार्यालयों में भी उपलब्ध कराया जाएगा।

यह भी पढ़ेंः प्रतिरोधक क्षमता बनी रहे, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता पहुंचा रहीं पुष्टाहार

- Advertisement -